लखनऊ:नन्ही गौरैया की प्यारी सी आवाज सुनने को हम सभी तरस रहें-कुँवर रामविलास रावत

लखनऊ।हमारे घर आंगन में फुदकने वाली नन्ही प्यारी गौरैया हमारे घर आंगन से दूर हो गई।इस नन्ही गौरैया को बचाने के लिए सरकारी महकमा लोगों को जगरूक करने का प्रयास करता रहता है।एक साप्ताहिक समाचार पत्र भी मेरी प्यारी गौरैया मुहिम चला कर लोगों को गौरैया के क्रत्रिम घोसले वितरित कर जगरूक करने का एक छोटा सा प्रयास बीते कई सालों से कर रहा है।इसी कड़ी में शुक्रवार को पूर्व माध्यमिक विद्यालय भरोसा व जयप्रकाश नारायण सर्वोदय विद्यालय मोहान रोड में काकोरी ब्लॉक प्रमुख कुँवर रामबिलास रावत,मुहिम संचालक सम्पादक महेश साहू ने विद्यालय के अध्यापकों एवं बच्चों को क्रत्रिम घोसले वितरित कर मुहिम कि शुरूआत की।ब्लॉक प्रमुख कुँवर रामविलास रावत ने कहा कि यह नन्ही गौरैया अपनी प्यारी आवाज से हमारे वातावरण को संगीतमय बनाती थी।वह समय के साथ कही गायब सी हो गई।अब उसकी प्यारी आवाज सुनने को कान तरस रहे हैं।हमनें वह समय देखा है जब गौरैया हमारे आंगन में आती थी और पडे आनाज को चुनती थी।हम उस पर रंग फेकते थे,पर यह चिंता का विषय कि वह गौरैया हमसे दूर क्यों चली गई।मुहिम संचालक द्वारा इस तरह की मुहिम चला कर लोगों को जगरूक करने का प्रयास सराहनीय है।मुहिम संचालक महेश साहू ने उपस्थित छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुऐ कहा कि गौरैया पहले हमारे आंगन में चहकती थी पर अब वह हमसे दूर हो गई है।क्योंकि हमने अपने आलीशान आशियाने कि चाह में उस प्यारी गौरैया के आशियाने को छीन लिया है।यह एक घरेलू चिड़िया है।हम सबके बीच रहना पसंद करती है।उसके घोसले बनाने के लिए सुरक्षित जगह नहीं है।क्योंकि बढती आबादी के चलते तेजी से पेड़ों की कटान हो रही है।खेती कम हो रही है जो हो रही है उसमें कीटनाशक का प्रयोग हो रहा है।यानी हम उनके रहना व खाना सब छीन रहे हैं।तो कहां रहे गौरैया क्या खाऐ गौरैया?इसलिए हमे उसके लिए अपने घरों में क्रत्रिम घोसले लगाने व दाना (काकून)पानी रखना चाहिए।संवाददात के पूछने पर कहा कि वह इस मुहिम को बीते कई सालों से चला रहे हैं।इस मुहिम को जनवरी माह से शुरू कर अक्टूबर तक चलाकर लोगों को जगरूक करते हैं इस बार वह गौरैया के प्रति जगरूक लोगों को विश्व गौरैया दिवस पर सम्मानित करेंगे।इसके लिए लोगों को अपने घरों में लगे नन्ही गौरैया के क्रत्रिम घोसले के साथ सेल्फी लेकर फोटो को 9721356483 पर वाट्सप करना होगा।इस मौके पर अवध वन प्रभाग लखनऊ वन रेंज के वन रक्षक दीपक कनौजिया,समाजसेवी संदीप,पत्रकार अवनीश सिंह,इमरान अली,शहजादे, प्रधानाचार्य वीरेंद्र सिंह,प्रधानाचार्य डॉ संतोष श्रीवास्तव,अध्यापिका बरखा साहू,अमिता गुप्ता,कंचन यादव सहित सैकड़ों छात्र छात्राऐ उपस्थित रहे।